अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति बने 78 साल के बाइडेन, 127 साल पुरानी बाइबल पर हाथ रख ली शपथ, कमला हैरिस बनीं पहली महिला उपराष्ट्रपति

Share

अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति बने 78 साल के बाइडेन, 127 साल पुरानी बाइबल पर हाथ रख ली शपथ, कमला हैरिस बनीं पहली महिला उपराष्ट्रपति

एजेंसियां,वॉशिंगटन | जो बाइडेन ने बुधवार को अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति पद की शपथ ली। वहीं उनके साथ कमला हैरिस ने पहली महिला उपराष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। मुख्य न्यायाधीश जॉन रॉबर्ट्स ने 12 बजते ही (स्थानीय समयानुसार) कैपिटल के वेस्ट फ्रंट में बाइडेन को पद की शपथ दिलाई। शपथ ग्रहण का यह पारंपरिक स्थान है जहां नेशनल गार्ड्स के 25 हजार से अधिक जवान सुरक्षा में तैनात रहे। निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समर्थकों के हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए इस स्थान को किले में तब्दील कर दिया गया था।

बाइडेन (78) अपने परिवार की 127 वर्ष पुरानी बाइबिल के साथ शपथ ली। इस दौरान उनकी पत्नी जिल बाइडेन अपने हाथों में बाइबिल लिए खड़ी रहीं। हैरिस (56) पहली महिला, पहली अश्वेत और पहली दक्षिण एशियाई अमेरिकी उपराष्ट्रपति बनकर इतिहास रच दिया है।  उन्हें सुप्रीम कोर्ट की पहली लैटिन सदस्य न्यायमूर्ति सोनिया सोटोमेयर पद की शपथ दिलाई। सोटोमेयर ने बाइडेन को 2013 में उपराष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई थी। उन्होंने दो बाइबिल को लेकर शपथ ली जिसमें एक निकट पारिवारिक मित्र रेगिना शेल्टन की थी और दूसरी देश के पहले अफ्रीका मूल के अमेरिकी सुप्रीट कोर्ट के न्यायाधीश थुरगूड मार्शल की।

जनता के नेता, सुधारक और दूसरों का दर्द समझने वाले व्यक्ति के रूप में प्रसिद्ध जो बाइडेन किसी जमाने में देश के सबसे युवा सीनेटरों में से एक थे और आज अपने लंबे अनुभव के साथ अमेरिकी इतिहास के सबसे बुजुर्ग राष्ट्रपति बनने तक का उनका सफर बेहद दिलचस्प रहा है। उनके पास लगभग पांच दशक का राजनीतिक अनुभव है।

 


Share